10th Social Science Long Subjective Question In Hindi PDF

10th Social Science Long Subjective Question In Hindi PDF 2024 | Bihar Board Matric SST Subjective Question 2024

Social Science

10th Social Science Long Subjective Question In Hindi PDF 2024 :- दोस्तों यहां पर बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा 2024 ( Bihar Board Matric Exam 2024 ) के लिए सामाजिक विज्ञान (भूगोल) का सब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर दिया गया है यदि आप लोग मैट्रिक परीक्षा 2024 की तैयारी कर रहे हैं तो कक्षा 10 बिहार : उद्योग एवं परिवहन का दीर्घ उत्तरीय प्रश्न( class 10th bihar udyog evam parivahan dirgh uttariy prashn ) यहां पर किया गया है जो कि आने वाले परीक्षा के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है साथ ही इस वेबसाइट पर सभी सब्जेक्ट का ऑब्जेक्टिव एंड सब्जेक्टिव प्रश्न( Bihar Board Class 10th All Subjective Ka Objective And Subjective Question 2024 ) दिया गया है जिससे आप 2024 में बेहतर तैयारी कर सकते हैं

Join For Latest News And Tips

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Matric Exam 2024 Whatsapp Group


10th Social Science Long Subjective Question In Hindi PDF 2024

प्रश्न 1. बिहार के कृषि आधारित किसी एक उद्योग के विकास एवं वितरण पर प्रकाश डालिए।

उत्तर ⇒ बिहार में कृषि आधारित उद्योग, चीनी उद्योग, सूती वस्त्र उद्योग, जूट उद्योग है।

चीनी उद्योग — बिहार के उद्योगों में चीनी उद्योग एक महत्वपूर्ण है। 20वीं सदी के मध्य तक भारत में चीनी उद्योग के क्षेत्र में बिहार का स्थान महत्वपूर्ण था किंतु 1960 ई० के बाद इस उद्योग में हताश होने लगा। वर्तमान समय में उत्पादन

Join For Latest News And Tips

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

में 7वां स्थान है। यहाँ इस उद्योग के लिए सभी अनुकूल भौगोलिक परिस्थितियाँ वर्तमान हैं। बिहार की पहली चीनी मिल डच कम्पनी द्वारा 1840 ई बेतिया में स्थापित किया गया था। वर्तमान समय में यहाँ चीनी मिलें 9 हो गयी है एवं चीनी उत्पादन का कुल उत्पादन 4.52 लाख मीट्रिक टन है।”

बिहार में चीनी की अधिकतर मिलें उत्तरी-पश्चिमी क्षेत्र में विकसित है। पश्चिमी चम्पारण, पूर्वी चम्पारण, सीवान, गोपालगंज और सारण जिला में चीनी मिलें केन्द्रित है। क्योंकि यह क्षेत्र गन्ना उत्पादन के लिए अनुकूल है। बिहार में कुछ चीनी मिलें दरभंगा जिला के सकरी लोहार, हसनपुर एवं मुजफ्फरपुर जिला के मोतीपुर में है। राज्य के दक्षिणी भाग में भी चीनी के कुछ कारखाने स्थित है। इनमें विक्रमगंज बिहटा, गुरारू की चीनी मिलें हैं।


प्रश्न 2. बिहार में वस्त्र उद्योग पर विस्तार से चर्चा कीजिए। 

उत्तर ⇒ वस्त्र उद्योग बिहार का एक प्राचीन उद्योग है। इस उद्योग में एक विशेष समुदाय की भागीदारी रही है। यह काम यहाँ ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र दोनों में होता है। भागलपुर के तसर कपड़े, लूंगी एवं चादर देश-विदेश में प्रसिद्ध है औरंगाबाद जिले के ओबरा तथा दाऊदनगर के नातें कालीन की मांग सम्पूर्ण भारत

में है। बिहार में सूती, रेशमी एवं ऊनी वस्त्र तैयार किया जाता है कच्चे माल के अभाव के कारण बिहार में सूती वस्त्र उद्योग का अधिक विकास नहीं हुआ है, लेकिन सस्ते मजदूर तथा बाजार की उपलब्धता के कारण डुमरांव, गया, मोकामा, मुंगेर, फुलवारीशरीफ और माझी भागलपुर में यह उद्योग विकसित हुआ है। यहाँ छोटी-छोटी मिलें स्थापित हैं


Bihar Board Matric SST Subjective Question 2024

प्रश्न 3. बिहार के प्रमुख सड़क मार्गों के विस्तार एवं विकास पर प्रकाश डालिए ।

उत्तर ⇒ बिहार में सबसे पहले सड़क मार्ग का विकास हुआ। आजादी के बाद सड़क का विस्तार अधिक हुआ है जो कि आजादी के समय सड़कों की कुल लम्बाई 2104 कि० मी० थी, जबकि वर्तमान में सड़कों की कुल लम्बाई 81,680 कि० मी० थी, वर्तमान समय में सड़कों को प्रशासनिक एवं कार्यिक दृष्टि से पाँच वर्गों में रखा गया है-

प्रकारकुल लम्बाईकुलका प्रतिशत
राष्ट्रीय राजमार्ग

राज्य उच्च पथ

मुख्य जिला सड़कें

अन्य जिला सड़कें

ग्रामीण सड़कें

37,34000

38,49.00

701725

3819.00

63261.63

4.57

4.71

8.59

4.67

77.46

कुल लम्बाई81690.10100,00

(1) राष्ट्रीय उच्च मार्ग— यह बिहार को अन्य राज्यों एवं क्षेत्रों से जोड़ता है। बिहार की सबसे प्रमुख राष्ट्रीय उच्च मार्ग संख्या 2 है, यह ग्राण्ड ट्रंक रोड के नाम से प्रसिद्ध है। बिहार में राष्ट्रीय उच्च मार्ग की कुल लम्बाई 3134 कि.मी. है। बिहार में सबसे लम्बी सड़क उच्च पथ 31 है।

(2) राज्य स्तरीय सड़क मार्ग— इन सड़कों की देख-रेख बिहार सरकार करती है और यह मुख्य रूप से जिला मुख्यालयों को जोड़ती है।

(3) जिला स्तरीय सड़क— ये सड़कें जिला के मुख्य नगरों एवं अनुमंडलों को जोड़ती है।

(4) राज्य में सबसे अधिक विस्तार सड़कों का है। वर्तमान में सड़कों के विकास पर अधिक बल दिया जा रहा है। एशियान बैंक के सहयोग से इन्हें दो लेन वाले उच्च पथों में उन्नयन का काम जारी है।


प्रश्न 4. बिहार में वन्य पदार्थों पर आधारित उद्योगों का वर्णन करें ?

उत्तर ⇒ जन्य पदार्थों पर आधारित उद्योगों में यहाँ लकड़ी, कागज, लुग्दी तथा लाख उद्योग विकसित हैं। बिहार में नेपाल की सीमा पर नरकटियागंज, जोगबनी, वैसानिया, गोपालगंज, मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, पटना भागलपुर और कटिहार में लकड़ी के कारखाने हैं। हाजीपुर और बेतिया में प्लाईवुड के कारखाने प्रसिद्ध हैं। गन्ने की खोई एवं चावल के छिलके, बाँस, सवाई घास, मुलायम लकड़ियों की प्रयुक्त उपलब्धता के कारण कागज तथा लुग्दी के कारखानों का यहाँ विकास हो पाया है। यहाँ कागज के प्रमुख कारखाने ठाकुर पेपर मिल्स समस्तीपुर तथा अशोक पेपर मिल, डालमियानगर में स्थापित छोटे कागज के कारखाने बरौनी और पटना में स्थापित है।

लाख के कीड़े प्लास, वेर, कुसुम आदि की वृक्षों पर विशेष रूप से पनपते हैं और यह वृक्ष नवादा, गया, बांका, मुंगेर तथा पूर्णिया जिलों में पर्याप्त मात्रा में मिलते हैं। इसलिए लाह (लाख) उद्योग इन्हीं जिलों में विस्तृत हैं।


प्रश्न 5. बिहार के खनिज आधारित किसी एक उद्योग के विकास पर प्रकाश डालें ?

उत्तर ⇒ बिहार में खनिज का अभाव है। यहाँ मात्र चूना पत्थर एवं पायराइट पर्याप्त परिमाण में उपलब्ध है। खनिज पर आधारित उद्योगों में सीमेंट उद्योग, रसायन उद्योग एवं काँच उद्योग प्रमुख हैं।

सीमेंट उद्योग — सीमेन्ट उद्योग के लिए सबसे प्रमुख कच्चा माल चूना पत्थर । साधारणतः एक टन सीमेन्ट उत्पादन के लिए 2.02 टन कच्चे माल की आवश्यकता होती है। राज्य में कैमूर की पहाड़ियों से चूना पत्थर प्राप्त किया जाता है बिहार में सम्पूर्ण देश का मात्र 5% चूना पत्थर प्राप्त होता है सीमेंट उद्योग | रोहतास जिला में डेहरी आन सोन के पास डालमियानगर में सीमेंट का कारखाना है। परंतु अभी यह रूग्णावस्था में है। राज्य सरकार ने छोटे-छोटे कारखाने लगाने की योजना बनाई है। रोहतास एवं भभुआ जिलों में मिनी प्लांट खोलने की योजना है।


  Chapter NameSub Ques
5. (क) खनिज एवं ऊर्जा संसाधनClick Here
5. (ख) बिहार : उद्योग एवं परिवहनClick Here
5. ( ग ) बिहार : जनसंख्या एवं नगरीकरणClick Here
Geography Important Question   
Chapter Name Objective Que Subjective Que Long Subjective
1. भारत : संसाधन एवं उपयोगClick HereClick HereClick Here
2. कृषिClick HereClick HereClick Here
3. निर्माण उद्योग Click HereClick HereClick Here
4. परिवहन , संचार एवं व्यापारClick HereClick HereClick Here
5. बिहार : कृषि एवं वन संसाधन Click HereClick HereClick Here
6. मानचित्र अध्ययनClick HereClick HereClick Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *