Class 10th History Subjective Question Answer

Class 10th History Subjective Question Answer 2024 | कक्षा 10वीं इतिहास सब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर 2024

Social Science

Class 10th History Subjective Question Answer 2024 :- दोस्तों यहां पर बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा 2024 ( Bihar Board Matric Exam 2024 ) के लिए सामाजिक विज्ञान (इतिहास) का सब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर दिया गया है यदि आप लोग मैट्रिक परीक्षा 2024 की तैयारी कर रहे हैं तो कक्षा 10 समाजवाद एवं साम्यवाद का लघु उत्तरीय प्रश्न( class 10th samajwad avn samyavad laghu uttariy prashn ) यहां पर किया गया है जो कि आने वाले परीक्षा के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है साथ ही इस वेबसाइट पर सभी सब्जेक्ट का ऑब्जेक्टिव एंड सब्जेक्टिव प्रश्न( Bihar Board Class 10th All Subjective Ka Objective And Subjective Question 2024 ) दिया गया है जिससे आप 2024 में बेहतर तैयारी कर सकते हैं

Join For Latest News And Tips

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Matric Exam 2024 Whatsapp Group


Class 10th History Subjective Question Answer 2024

प्रश्न 1. अक्टूबर क्रांति क्या है?

उत्तर ⇒ 7 नवंबर, 1917 ई० को बोल्शेविकों ने करेंस्की सरकार का तख्ता पलट दिया और रूस पर अधिकार जमा लिया। यह नवम्बर में हुई थी किन्तु रूसी कलेण्डर के अनुसार यह अक्टूबर था, जिस कारण इसे अक्टूबर क्रांति कहते हैं ।


प्रश्न 2. कार्ल मार्क्स कौन थे?

Join For Latest News And Tips

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

उत्तर ⇒ कार्ल मार्क्स विश्व के गिने-चुने चिंतकों में एक थे, जिन्होंने 1867 ई० में ‘दास कैपिटल’ नामक पुस्तक की रचना की जिसे ‘समाजवादियों का बाइबिल’ कहा जाता है।


प्रश्न 3. पूँजीवाद क्या है?

उत्तर ⇒ पूँजीवाद से तात्पर्य ऐसी अर्थव्यवस्था से है, जिसमें उत्पादन के साधन पर व्यक्तिगत स्वामित्व होता है, जिसका उद्देश्य लाभार्जन है। यह एक ऐसी राजनीतिक आर्थिक व्यवस्था है जिसमें निजी सम्पत्ति तथा निजी लाभ की अवधारणा को मान्यता दी जाती है । यह सार्वजनिक क्षेत्र में विस्तार एवं आर्थिक गतिविधियों में सरकारी हस्तक्षेप का विरोध करती है।


प्रश्न 4. सर्वहारा वर्ग किसे कहते हैं ?

उत्तर ⇒ समाज का वैसा वर्ग जिसमें किसान, कृषक मजदूर, सामान्य मजदूर और आम गरीब लोग शामिल हो, उसे सर्वहारा वर्ग के नाम से जाना जाता है।


प्रश्न 5. खूनी रविवार क्या है?

उत्तर ⇒ 1905 ई० के रूस-जापान युद्ध में रूस एशिया के एक छोटे-से देश जापान से पराजय के कारण रूस में क्रांति हो गई। 9 फरवरी, 1905 ई० को जार की सेना ने निहत्थे लोगों पर गोलियाँ बरसायीं, जिसमें हजारों लोग मारे गए, उस दिन रविवार था, इसलिए इस तिथि को खूनी रविवार के नाम से जाना जाता है।


प्रश्न 6. शीतयुद्ध से आप क्या समझते हैं?

उत्तर ⇒ शीतयुद्ध पूँजीवाद और साम्यवाद के बीच एक वैचारिक युद्ध था। इस युद्ध में पूँजीवाद का प्रतिनिधित्व संयुक्त राज्य अमेरिका ने किया था और साम्यवाद का प्रतिनिधित्व सोवियत संघ ने किया था। शीतयुद्ध में कोई प्रत्यक्ष युद्ध नहीं होता है । इस युद्ध में एक-दूसरे पर आरोप लगाये जाते है ।


प्रश्न 7. प्रथम अंतर्राष्ट्रीय संघ से आप क्या समझते हैं?

उत्तर ⇒ प्रथम अंतर्राष्ट्रीय संघ की स्थापना 1854 ई० में की गई थी। इसकी स्थापना का श्रेय कार्ल मार्क्स को जाता है। इस सम्मेलन का नारा था— अधिकार के बिना कर्त्तव्य नहीं और कर्तव्य के बिना अधिकार नहीं।


प्रश्न 8. बोल्शेविक क्रांति से पहले रूसी किसानों की स्थिति कैसी थी?

उत्तर ⇒ बोल्शेविक क्रांति से पूर्व रूसी जनसंख्या का बहुसंख्यक भाग कृषकों का था। 1861 ई. में जार एलेक्जेंडर II द्वारा कृषि दासता खत्म कर दी गयी थी। लेकिन, वास्तविक रूप से अपने छोटे-छोटे खेत एवं पुराने ढंग से खेती करने के कारण इनकी स्थिति दयनीय थी।


कक्षा 10वीं इतिहास सब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर 2024

प्रश्न 9. साम्यवाद एक नई आर्थिक एवं सामाजिक व्यवस्था थी। कैसे ?

उत्तर ⇒ 1917 ई० से पूर्व रूस में राजतंत्रीय शासन स्थापित था। रूस के सम्राट् को जार कहा जाता था जारशाही शासन निरंकुशता का प्रतीक था। किसानों, मजदूरों और सामान्य लोगों का जीवन अत्यंत ही दयनीय था। अतः 1917 ई. में लेनिन के नेतृत्व में साम्यवादी क्रांति हुई जिसमें सत्ता की बागडोर सर्वहारा (अर्थात् कृषक, मजदूर और जनसामान्य) के हाथों में आ गई। उत्पादन पर अब पूरे समाज का अधिकार हो गया। अतः हम कह सकते हैं कि साम्यवाद एक नई आर्थिक और सामाजिक व्यवस्था थी।


प्रश्न 10. रूसीकरण की नीति क्रांति हेतु कहाँ तक उत्तरदायी थी?

उत्तर ⇒ सोवियत रूस विभिन्न राष्ट्रीयताओं का देश था। यहाँ मुख्यतः स्लाव जाति के लोग रहते थे। इनके अतिरिक्त फिन, पोल, जर्मन, यहूदी आदि अन्य जातियों के लोग भी थे। ये भिन्न-भिन्न भाषा बोलते थे तथा इनका रस्म-रिवाज भी भिन्न-भिन्न था। परन्तु रूस के अल्पसंख्यक समूह जार निकोलस द्वितीय द्वारा जारी की गई रूसीकरण की नीति से परेशान थे। इसके अनुसार, जार ने देश के सभी लोगों पर रूसी भाषा, शिक्षा और संस्कृति लादने का प्रयास किया। इस कारण गैर रूसी जनता में असंतोष फैला और वह जारशाही के विरुद्ध हो गई।


प्रश्न 11. रूसी क्रांति के किन्हीं दो कारणों का वर्णन करें।

उत्तर ⇒ रूसी क्रांति के दो कारण निम्नलिखित हैं :

(i) जार की निरंकुशता एवं अयोग्य शासन-1917 ई० से पूर्व रूस में निरंकुश जारशाही व्यवस्था कायम थी। राजतंत्र अपना विशेषाधिकार छोड़ने के लिए तैयार नहीं था । जार- निकोलस II जिसके शासनकाल में क्रांति हुई, राजा के देवी अधिकारों में विश्वास करता था। उसे आम लोगों के सुख-दुख की कतई चिन्ता नहीं थी।

(ii) मजदूरों की दयनीय स्थिति-रूस में मजदूरों की स्थिति अत्यन्त दयनीय थी उन्हें काम अधिक करना पड़ता था। उनकी मजदूरी काफी कम थी। उसके पास कोई राजनीतिक अधिकार नहीं थे। अतः वे तत्कालीन व्यवस्था से असंतुष्ट थे।


प्रश्न 12. नई आर्थिक नीति मार्क्सवादी सिद्धान्तों के बीच समझौता था। कैसे?

उत्तर ⇒ लेनिन एक कुशल सामाजिक चिंतक तथा व्यवहारिक राजनीतिज्ञ था। उसने यह स्पष्ट देखा कि तत्काल पूरी तरह समाजवादी व्यवस्था लागू करना या एक साथ सारी पूँजीवादी दुनिया से टकराना संभव नहीं है। जैसा कि ट्रॉटस्की चाहता था इसलिए 1921 ई. में उसने एक नई नीति की घोषणा की। किसानों से अनाज लेने के स्थान पर एक निश्चित कर लगाया गया। जमीन पर किसानों का हक कायम रहने दिया गया। विदेशी पूँजी भी सीमित मात्रा में आमंत्रित की गई। यूनियन की अनिवार्य सदस्यता समाप्त कर दी गई। कृषकों से अतिरिक्त उपज की अनिवार्य वसुली बंद कर दी गई एवं किसानों के अतिरिक्त उत्पादन को बाजार में बेचने की अनुमति प्रदान की गई। 1924 ई० में सरकार ने अनाज के स्थान पर ‘रूबल’ में कर लेना प्रारंभ किया। श्रमिकों को भी कुछ नकद मुद्रा प्रदान किया जाने लगा


प्रश्न 13. प्रथम विश्वयुद्ध में रूस की पराजय ने क्रांति हेतु मार्ग प्रशस्त किया कैसे?

उत्तर ⇒ प्रथम विश्वयुद्ध 1914 से 1918 ई. तक चला। इस युद्ध में रूस भी मित्रराष्ट्रों की ओर से शामिल हुआ था। इस युद्ध में सम्मिलित होने का एकमात्र उद्देश्य था कि रूसी जनता आंतरिक असंतोष भूलकर बाहरी मामलों में उलझ जाए। परन्तु, इस युद्ध में चारों तरफ रूसी सेनाओं की हार हो रही थी । युद्ध जिसके कारण के मध्य में जार ने सेना का नियंत्रण अपने हाथों में ले लिया। परिणामस्वरूप दरबार खाली हो गया तथा षड्यंत्र करने का मौका मिल गया, राजतंत्र की प्रतिष्ठा गिर गई। अतः हम कह सकते हैं कि प्रथम विश्वयुद्ध में रूस की पराजय ने क्रांति हेतु मार्ग प्रशस्त किया।


Bihar Board Class 10th History Subjective Question Answer 2024

प्रश्न 14. रूस में बोल्शेविक क्रांति पर 1905 की क्रांति का क्या प्रभाव था?

उत्तर ⇒ 1905 ई० में रूस-जापान युद्ध में रूस की पराजय हुई। इस पराजय को लोगों ने राष्ट्रीय अपमान समझकर जार के विरुद्ध विद्रोह कर दिया। विद्रोह को दबाने के लिए जार ने सारे देश में सैनिक कानून लागू कर दिए। फिर भी, क्रांति नहीं दबी । 9 जनवरी, 1905 ई० को रूस के मजदूर शांतिपूर्वक राजमहल के पास पहुँचे । जार ने घबराकर उन मजदूरों पर गोली चलवा दिया। एक हजार से अधिक मजदूर मौत के घाट उतार दिए गए। यह दिन रूस के इतिहास में ‘खूनी रविवार’ के नाम से प्रसिद्ध है।

यह क्रांति तो असफल रही। इसने रूस की साधारण जनता को राजनीतिक अधिकारों से परिचित कराया। उन्हें मताधिकार और जनतांत्रिक शासन का ज्ञान हुआ। अतः रूस की जनता भी लोकतांत्रिक शासन की स्थापना चाहने लगी, जहाँ जनता के हाथ में शासन सत्ता हो ।


प्रश्न 15. क्रांति से पूर्व रूसी किसनों की स्थिति कैसी थी ?

उत्तर ⇒ बोल्शेविक क्रांति से पूर्व रूसी जनसंख्या का बहुसंख्यक भाग कृषकों का था। 1861 ई० में जार एलेक्जेंडर II द्वारा कृषि दासता खत्म कर दी गई थी। लेकिन, वास्तविक रूप से अपने छोटे-छोटे खेत एवं पुराने ढंग से खेती करने के कारण इनकी स्थिति दयनीय थी ।


History Important Question  Bihar Board 12th Result 2023 : बिहार बोर्ड 12वीं रिजल्ट यहाँ से करें डाउनलोड
Chapter Name Objective Que Subjective Que Long Subjective
1. यूरोप में राष्ट्रवादClick HereClick HereClick Here
2. समाजवाद एवं साम्यवाद Click HereClick HereClick Here
3. हिंद – चीन में राष्ट्रवादी आंदोलनClick HereClick HereClick Here
4. भारत में राष्ट्रवादClick HereClick HereClick Here
5. अर्थव्यवस्था और आजीविका Click HereClick HereClick Here
6. शहरीकरण एवं शहरी जीवनClick HereClick HereClick Here
7. व्यापार और भूमंडलीकरणClick HereClick HereClick Here
8. प्रेस- सांस्कृति एवं राष्ट्रवादClick HereClick HereClick Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *